Tuesday, 18 November 2008

अजेय की कविता

आज जब वह जा रही है
(मां की अंतिम यात्रा से लौटने पर)

वह जब थी
तो कुछ इस तरह थी
जैसे कोई भी बीमार बुढ़ीया होती है
शहर के किसी भी घर में
अपने दिन गिनती।

वह जब थी
उस शहर और घर को
कोई खबर न थी
कि दर्द और संघर्ष की
अपनी दुनिया में
वह किस कदर अकेली थी ।

आज जब वह जा रही है।
(मां की अंतिम यात्रा से लौटने पर)


कहां शामिल था
ख़ुद मैं भी
उस तरह से
उसके होने में
जिस तरह से इस अंतिम यात्रा में हूं ?


आज जब वह जा रही है
तो रोता है घर
स्तब्ध ह्ऐ शहर
खड़ा हो गया है कोई दोनो हाथ जोड़े
दुकान में सरक गया है कोई मुह फेर कर
भीड़ ने रास्ता दे दिया है उसे
ट्रैफिक थम गया है
गाड़ियां भारी भरकम अपनी गर्वीली गुर्राहट बंद कर
एक तरफ हो गई है दो पल के लिए
चौराहे पर
वर्दीधारी उस सिपाही ने भी
अदब से ठोक दिया है सलाम।
आज जब जा रही है मां
तो लगने लगा है सहसा
मुझे
इस घर को
और पूरे शहर को
कि वह थी...........और अब नहीं रही।

10 comments:

शोभा said...

बहुत अच्छा लिखा है। ब्लाग जगत में आपका स्वागत है।

रश्मि प्रभा said...

शब्द अवरुध्ध हैं........आँखें छलक उठी हैं,
और कहने को क्या है.........

श्यामल सुमन said...

माँ फितरत की मौसमें माँ कुदरत के राज।
माँ हर्फों की शायरी माँ साँसों का साज।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
www.manoramsuman.blogspot.com

Abhishek said...

शुरुआत ही ऐसी भावपूर्ण कविता से! स्वागत.

Amit K. Sagar said...

waah. sraahniya. keep it up dear. ब्लोगिंग जगत में आपका स्वागत है. खूब लिखें, खूब पढ़ें, स्वच्छ समाज का रूप धरें, बुराई को मिटायें, अच्छाई जगत को सिखाएं...खूब लिखें-लिखायें...
---
आप मेरे ब्लॉग पर सादर आमंत्रित हैं.
---
अमित के. सागर

संगीता पुरी said...

इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका हिन्‍दी चिटठा जगत में स्‍वागत है। आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध बनाएंगे। हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

नारदमुनि said...

kavita komal dil ke bhav hain jo shabdon ka rup le lete hain. narayan narayan

रचना गौड़ ’भारती’ said...

चिट्ठा जगत में आपका स्वागत है ।
भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है ।
लिखते रहिए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
कविता,गज़ल,शेर आदि के लिए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
मेरे द्वारा संपादित पारिवारिक पत्रिका भी देखें
www.zindagilive.blogspot.com

Sujata Dua said...

aadarneey prakaash ji ,
agey saahab ki in kavitaaon se parichay karwaanen ke liye shukriyaa ...

leena malhotra said...

aapne yah kavita apnee comments me mere blog par chhodi thee. dhoondh kar yahan pahunchi hoon. hazaar baar padhi hai yah maine. isse adhik kya kahoon ke ham sab chook jaate hai jab ve hote hai. . sabhaar. leena